पितृदेव, श्राद्ध

बारह मास में एक पक्ष अब ऐसा आया है
पितृदेव को तर्पण का फ़िर अवसर आया है

जिनका हमें आशीष मिला बीते पूरे साल
वे स्वयं यहाँ पधारे हैं करने को ख़ुशहाल
हे अम्मा-बाबा नानी-नाना पुनः तुम्हें सादर नमन
जो भी जल-फ़ूल किया अर्पण, प्रभु करो ग्रहण
श्रद्धा से श्राद्ध करें उनका वही हममें समाया है
पितृदेव को तर्पण का फ़िर अवसर आया है

वे आए हैं मिलने हमसे की कैसा है मेरा परिवार
कैसे बच्चे निभा रहें हैं मिला मुझसे जो संस्कार
और दिखाने सही रूप जीवन का सुमति का
और मिटाने पितृ दोष तथा तथ्य कुमति का
हे पूर्वज है तुम्हें समर्पित जो भी आज बनाया है
पितृदेव को तर्पण का फ़िर अवसर आया है

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , , | 4 Comments

हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ

हिंदी मेरी भाषा और हिंदी मेरी हर बात में
जैसे चंदा एक अकेला तारों की बारात में

हिंदी में मैं स्वप्न देखता, हिंदी में करता विचार
हिंदी मेरे मन का दर्पण, हिंदी ही इसका आधार
भारत की सारी भाषाएँ, हैं प्यारी-प्यारी वाणी
नदियाँ हैं सारी भाषाएँ और हिंदी गंगा का पानी
हिंदी में ‘माँ’ लिखना सीखा, राम पढ़ा है साथ में
हिंदी मेरी भाषा है और हिंदी मेरी हर बात में

सुना कबीर ने दोहे गाए अवधी हिंदी पुरवाई में
तुलसी की रामायण पढ़ ली, हिंदी की चौपाई में
हिंदी को कर गया निराला दे सुंदर शब्दों की माला
दिनकर जी की रश्मीरथी और बच्चन की मधुशाला
हिंदी भारत की आरती जैसे संध्या और प्रभात में
हिंदी मेरी भाषा है और हिंदी मेरी हर बात में

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , | Leave a comment

🙏🌺🌸🙏 #शिक्षकदिवस की शुभकामनाएँ, सभी शिक्षकों को प्रणाम 🙏

शिक्षक कई रूप में मिलते हैं, शिक्षक कई प्रारूप में मिलते हैं। उनके पढ़ाने से हम शून्य से मूल्य में परिवर्तित होते हैं। वे अपनी अमुल्य शिक्षा हममें गढ़ते हैं…यूँ ही नहीं हम उन्हें पूज्य कहते हैं।

मात-पिता प्रारम्भिक शिक्षक होते हैं तो विद्यालय आते ही प्राथमिक शिक्षक मिलते हैं।

यद्यपि, हर शिक्षक का पढ़ाने का तरीक़ा भिन्न पाया होगा परंतु उनके शिक्षण को जीवन के अलग-अलग अनुभवों में घुला पाया….भिन्न परिस्थितियों के प्रश्न में खड़ा पाया और हर दशा में उत्तर पाने की दिशा में प्रेरित करता पाया।

कुछ ने साहित्य का वर्ण सिखाया होगा, कुछ ने महान ग्रंथों से अर्जुन और कर्ण को पढ़ाया होगा।

कुछ ने आदर्शों को पिरोया … हाँ राम को सुनाया

कुछ ने गणित का मान बताया, कुछ ने हमें भूगोल, इतिहास से सजाया और कुछ ने विज्ञान का संज्ञान कराया।

आज अवसर है हर छोटी या बड़ी शिक्षा देने वाले गुरुजनों का अभिवादन करने का और उनसे मिली हर उस सीख को प्रणाम करने का जिनसे जीवन का आधार बना।

महान शिक्षक सर्वपल्ली जी को मेरा प्रणाम और मेरे सभी शिक्षकों को साष्टांग दण्डवत 🙏🙏🙏

Image | Posted on by | Tagged , , , , , | 2 Comments

मेरा भारत मेरा कश्मीर

e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0-e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4-.m4a

Image | Posted on by | Tagged , , , , | Leave a comment

पुस्तक प्रकाशित – मेरी कविता मेरे भाव

via पुस्तक प्रकाशित – मेरी कविता मेरे भाव

Quote | Posted on by | Leave a comment

पुस्तक प्रकाशित – मेरी कविता मेरे भाव

https://www.amazon.in/dp/B07V7BSHL9?ref=myi_title_dp

Hardcoverhttps://www.amazon.in/dp/B07V8G7PT9?ref=myi_title_dp

पहली इक्यावन प्रतीयों के पैसे एक NGO ‘उत्साह’ को समर्पित है। कृपया इस लिंक से पढ़ें, पढ़ाएँ और बताएँ अपने अन्य मित्रों को।

Image | Posted on by | Tagged , , , , , | 1 Comment

पापा, पिताजी

🙏 #पापा, #पिताजी 🙏

उनकी बातें अभी भी जवान हैं
मेरे पिताजी में पूरा हिंदुस्तान है ।
कई बार हवाओं को बदला होगा
बाबू जी ऐसी ही दास्तान हैं ।।

पिताजी, बाबूजी, अब्बा, पापा … ये शब्द अपने आप में शशक्ता के पर्यार्य हैं। इनके बारे में क़लम उठती है तो बस बहे जाती है। शब्द अपने आप जैसे गढ़े जाते हैं।

माँ के बारे में जब लिखता हूँ तो सबसे ज़्यादा भाव ममता, करुणा जैसे आलोकों से सने होते हैं।

परन्तु पापा के बारे में लिखना एक अलग शैली को जीवित करता है। पापा पुरातन भी लगते हैं और आधुनिकता से जुड़े भी।

परिवार का वो मुखिया जो अपने पुरज़ोर प्रयत्न, कष्टपूर्ण कर्म, अथक साहस के लिए हमारे जीवन में एक अद्भुत स्थान रखता है …. पिता कहलाता है।

मेरे नाम को पूरा करने वाला ‘surname’ क्या सिर्फ़ कोई शब्द है, क्या केवल एक खाने को भरने के कुछ वर्ण हैं … ना ना…मेरा नाम जो मैं जानता हूँ, मेरा काम जो मैं करता हूँ, मेरी शैली, मेरी लीपी, मेरे अंगीकार, मेरे जीवन का आधार, मुझे समाज से करने का व्यवहार … ये सभी अगर किसी से मिले हैं वह व्यक्ति, वह देवता, वह पुस्तक, उसके अध्याय, वह मेरा पर्याय मेरे पिताजी हैं।
🙏

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , | Leave a comment