Monthly Archives: March 2018

याद है ये सफ़र कब शुरू हुआ था

याद है ये सफ़र कब शुरू हुआ था कब से वो हमसफ़र से बीत रहे हैं कौन-कौन दबे पाँव हमारे साथ चला था भला कितने क़दम साथ रहे हैं यूँ तो साथ अब भी चलती हैं टोलियाँ कुछ बदली-सी बोलियाँ … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

रखे शब्दों को फूलों पर, यूँ ही गीत बना बैठा

है प्यार वही जो ढले नहीं मन की पीड़ा को मले नहीं दीपक जलता बिन तेल नहीं दरिया की मिट्टी बहे नहीं जो रूठ गया वो बीता मौसम बिखरे पत्ते, कब रोता शीशम कर पत्थर अरमानों को, गूँगी तश्वीर बना … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

कुछ ऐसे ये होली मानते हैं हम 

मित्रों से ख़ुशी झूम जाते हैं हम  मिलकर ये होली मनाते हैं हम  गिलेशिकवे जो भी रहे साल भर  चलो हँसकर उन्हें भूल जाते हैं हम  कुछ ऐसे ये होली मानते हैं हम  तुम लगती प्रिये मलाई-सी आज  पकड़ी पिया … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment