Author Archives: Ashish kavita

About Ashish kavita

प्रकाशित पुस्तक - मेरी कविता मेरे भाव https://www.amazon.in/dp/B07V7BSHL9?ref=myi_title_dp I am Ashish Mishra living in London from 10 years. Earned education from Delhi. At present working in Computer Software arena. Since childhood I am attached to Hindi poetry. I love hindi poem. My favourite poets are Ramdhari Singh Dinkar, Harivansh Rai Bachan, Maithili Sharan Gupt … Email address: ashish24mishra@gmail.com https://www.facebook.com/profile.php?id=100000578775200 Edit

पापा, पिताजी

🙏 #पापा, #पिताजी 🙏 उनकी बातें अभी भी जवान हैं मेरे पिताजी में पूरा हिंदुस्तान है । कई बार हवाओं को बदला होगा बाबू जी ऐसी ही दास्तान हैं ।। पिताजी, बाबूजी, अब्बा, पापा … ये शब्द अपने आप में … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

चुनाव 2019

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

राम नवमी

दशरथ के घर जन्में, नवमी के दिन राजा राम आओ ख़ुशियाँ ख़ूब मनाएँ, मन में मेरे आजा राम तुलसी कहते बात ये की राम सत्य संसारा राम नाम के दीप से अंतः बाहर उजियारा राम नाम की लूट है, लूट … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

#पुलवामा

पूछ रहा है आज तिरंगा अपने मन की बात कबतक स्वान घात करेंगे वीरों पर आघात कबतक माँगे सूनी होंगी लिपटा देख सुहाग कबतक गोदी से लुढ़केगा बेटा भारत मात कबतक शांति दूत ही बनकर भारत रोष जताएगा या अब … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | 8 Comments

माँ का स्वर्गारोहण

माँ बरसों से दूर था तुमसे पर माँ है ग़ुरूर था मुझे हालाँकि आँखें सीली रहीं चाहे परदेस ही था पर माँ है तसल्ली रही माँ गोद में कुछ ऐसे सुलाती थी माँ लोरी गा चंदा रात बुलाती थी और … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , | Leave a comment

मित्र

कुछ पल को मित्र क्या दूर हुआ लाचार हुआ, बेकार हुआ नम आँखों से मन को धोया मन में कई बार विकार हुआ कोई हमसे यूँ रूठा था जैसे सपना कोई झूठा था ना रात नींद से बात हुई ना … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , | 4 Comments

पिछले सप्ताह High Commission of India, London के कवि सम्मेलन में हिंदी का प्रतिनिधित्व करते हुए 😀 #highcommissionIndia

Posted in जीवन | 2 Comments

Poor hearts

What I have, had with someone No matter earned or burned This belongs to someone or thou for now I am king of poor hearts And so will conquer others no matter how

Posted in जीवन | Tagged | Leave a comment

Shackle the plants

Where to go where to march Need of starch starves me Very soon will diminish as bunny And then the time may shackle the plants to my tummy

Posted in जीवन | Tagged , , , , | Leave a comment