Category Archives: जीवन

आने को तैयार जनवरी

देख दिसम्बर बूढ़ा होकर गिनता अपनी रातें हैआने को तैयार जनवरी चार दिनों की बातें हैकैलेंडर ने चुप्पी साधी अंतिम साल महीने मेंनयी रोशिनी लेकर बैठी जनवरी अपने सीने में उस कोने में साल है बैठा ताके अपनी राहें हैदेख … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , | Leave a comment

बुझे हुए दीपों से पूछो

बुझे हुए दीपों से पूछो कितने रोशनदान बनाए अंधेरे को दूर भगा कर घर में कितने राम सजाए लौ ने कैसे ठुमक-ठुमक कर देखा ख़ुद को जला रही थी आधी बाती बची हुई तिरछी होकर बता रही थी एक बूँद … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged | 2 Comments

रावण दहन

आज फिर से रावण जला दिया स्वयं को दोबारा नया बना लिया। अगले बरस तक कुछ और जोड़ लेंगे पुराने बगीचे से कुछ नवीन तोड़ लेंगे स्वयं को तराशना कठिन ही होगा आसान बनाने को दशानन बटोर लेंगे। कम से … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

हिंदी दिवस

हिंदी को अपनाइए, ना समझें इसको बोझऐसा एक निवेदन है, आग्रह और अनुरोध

Posted in जीवन | Tagged , , , , | 1 Comment

पेड़-पौधे

गमले या फिर ज़मीं कहीं पौधों की है जगह वहींकबतक देर लगाओगे और सोचना सही नहीं

Posted in जीवन | Tagged , | Leave a comment

सतरंगी सपनें

सतरंगी सपनों को जैसे पलकों तले बिछाया है और तुम्हारी मुस्कानों ने मुझको नया बनाया है    

Posted in जीवन | 5 Comments

जनतंत्र #TV live

Posted in जीवन | 3 Comments

थोड़ी देर रुका जीवन फिर से चलने वाला है

☁️ ⛅️ ☀️ 🌷थोड़ी देर रुका जीवन फिर से चलने वाला हैथोड़ा संयम और सही ये संशय जाने वाला हैदेखा है मैंने गमले में अंकुर नया फूटकर आया अचेतन था दुबका अंदर वह जीवन बन आयाअंदर बैठा अंधकार में साँसों … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , | 3 Comments

भिखारी और कर्फ़्यू

दो-तीन बार करवटें बदल चुका हूँ। एक बार अपना चार-पाँच इंच पैर भी अटपटे-से कम्बल से बाहर निकाल चुका हूँ। कान पर कुछ पतंगा चल रहा है जिसे फ़िर से हटाया है। शायद ये वही है जो पिछले कुछ घंटों … Continue reading

Posted in जीवन | Leave a comment