Tag Archives: हिंदी कविता

🙏🌺🌸🙏 #शिक्षकदिवस की शुभकामनाएँ, सभी शिक्षकों को प्रणाम 🙏

शिक्षक कई रूप में मिलते हैं, शिक्षक कई प्रारूप में मिलते हैं। उनके पढ़ाने से हम शून्य से मूल्य में परिवर्तित होते हैं। वे अपनी अमुल्य शिक्षा हममें गढ़ते हैं…यूँ ही नहीं हम उन्हें पूज्य कहते हैं। मात-पिता प्रारम्भिक शिक्षक … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | 2 Comments

मेरा भारत मेरा कश्मीर

e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0-e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4-.m4a

Posted in जीवन | Tagged , , , , | Leave a comment

पुस्तक प्रकाशित – मेरी कविता मेरे भाव

https://www.amazon.in/dp/B07V7BSHL9?ref=myi_title_dp Hardcover– https://www.amazon.in/dp/B07V8G7PT9?ref=myi_title_dp पहली इक्यावन प्रतीयों के पैसे एक NGO ‘उत्साह’ को समर्पित है। कृपया इस लिंक से पढ़ें, पढ़ाएँ और बताएँ अपने अन्य मित्रों को।

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | 1 Comment

पापा, पिताजी

🙏 #पापा, #पिताजी 🙏 उनकी बातें अभी भी जवान हैं मेरे पिताजी में पूरा हिंदुस्तान है । कई बार हवाओं को बदला होगा बाबू जी ऐसी ही दास्तान हैं ।। पिताजी, बाबूजी, अब्बा, पापा … ये शब्द अपने आप में … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

चुनाव 2019

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

राम नवमी

दशरथ के घर जन्में, नवमी के दिन राजा राम आओ ख़ुशियाँ ख़ूब मनाएँ, मन में मेरे आजा राम तुलसी कहते बात ये की राम सत्य संसारा राम नाम के दीप से अंतः बाहर उजियारा राम नाम की लूट है, लूट … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

#पुलवामा

पूछ रहा है आज तिरंगा अपने मन की बात कबतक स्वान घात करेंगे वीरों पर आघात कबतक माँगे सूनी होंगी लिपटा देख सुहाग कबतक गोदी से लुढ़केगा बेटा भारत मात कबतक शांति दूत ही बनकर भारत रोष जताएगा या अब … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | 8 Comments

माँ का स्वर्गारोहण

माँ बरसों से दूर था तुमसे पर माँ है ग़ुरूर था मुझे हालाँकि आँखें सीली रहीं चाहे परदेस ही था पर माँ है तसल्ली रही माँ गोद में कुछ ऐसे सुलाती थी माँ लोरी गा चंदा रात बुलाती थी और … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , | Leave a comment

मित्र

कुछ पल को मित्र क्या दूर हुआ लाचार हुआ, बेकार हुआ नम आँखों से मन को धोया मन में कई बार विकार हुआ कोई हमसे यूँ रूठा था जैसे सपना कोई झूठा था ना रात नींद से बात हुई ना … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , | 4 Comments