Tag Archives: होली

ज़िंदगी से बात कर ले

बैठ जा कुछ ज़िंदगी से बात कर ले बात कर के ज़िंदगी को साथ कर ले रात भर लेटा तो था पर सोया नहीं है कल की भागमभाग में खोया कहीं है अपने जो थे वे आज़ नपने लग रहे … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 5 Comments

माँ तुम

माँ तुम अलबेली, गंगा-सी पवित्र हो मन की जगमग ज्योति तुम हो, इत्र हो माँ तुम प्यारी, वो लोरी की थाप हो वेदों के मंत्रों की जैसे कोई जाप हो माँ तुम पहेली, सीपों के अंदर मोती हो मैं रोता … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 2 Comments

आँसू

जो बात कहनी थी वो शायद हो गई। जब आँख से आँसू रुका ही नहीं।। आँसू निकल सारी क़वायद कर गए । मन के फफोले आँसुओं में सन गए ।। जब आँख का आँसू ढ़लकता गाल पर। दीखता है प्रेम … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 3 Comments

जीवन चलता है

कुछ सपने बिकते मोती भाव, कुछ मोती सीप में रोते है । पतवार आप ही खेती नाव, अपने समीप जब होते है ।। यूँ तो कुछ हँसते भी होंगे, जब डगमग हो गिर जाते हो । कुछ चाल तेज़ हो … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

माँ – मिला जो फ़िर उनसे आँखें भरी

मिला जो फ़िर उनसे आँखें भरी बिछुड़ा फ़िर उनसे नदी-सी बही कुछ दिन बिताए साए में उनके अब कैसे बिताऊँगा पता ही नहीं लड़खड़ाती चले वो लिए झुर्री नई अब भूलने लगी है किसी की कही जब चलने लगा पूछा … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

कभी वो मुसाफ़िर

एक राह मुड़कर, वहीं आई है आख़िर जहाँ से चला था, कभी वो मुसाफ़िर कुछ था बदला, कुछ बदला नहीं जी कुछ तो खुला था, कुछ परदा वही जी देखा एक गाँव कुछ बचपन के पाँव मटकती-सी यादें बिछड़ों से … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | 1 Comment

याद है ये सफ़र कब शुरू हुआ था

याद है ये सफ़र कब शुरू हुआ था कब से वो हमसफ़र से बीत रहे हैं कौन-कौन दबे पाँव हमारे साथ चला था भला कितने क़दम साथ रहे हैं यूँ तो साथ अब भी चलती हैं टोलियाँ कुछ बदली-सी बोलियाँ … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

रखे शब्दों को फूलों पर, यूँ ही गीत बना बैठा

है प्यार वही जो ढले नहीं मन की पीड़ा को मले नहीं दीपक जलता बिन तेल नहीं दरिया की मिट्टी बहे नहीं जो रूठ गया वो बीता मौसम बिखरे पत्ते, कब रोता शीशम कर पत्थर अरमानों को, गूँगी तश्वीर बना … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment

कुछ ऐसे ये होली मानते हैं हम 

मित्रों से ख़ुशी झूम जाते हैं हम  मिलकर ये होली मनाते हैं हम  गिलेशिकवे जो भी रहे साल भर  चलो हँसकर उन्हें भूल जाते हैं हम  कुछ ऐसे ये होली मानते हैं हम  तुम लगती प्रिये मलाई-सी आज  पकड़ी पिया … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , | Leave a comment