Tag Archives: Ashish Mishra

आने को तैयार जनवरी

देख दिसम्बर बूढ़ा होकर गिनता अपनी रातें हैआने को तैयार जनवरी चार दिनों की बातें हैकैलेंडर ने चुप्पी साधी अंतिम साल महीने मेंनयी रोशिनी लेकर बैठी जनवरी अपने सीने में उस कोने में साल है बैठा ताके अपनी राहें हैदेख … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , | Leave a comment

रावण दहन

आज फिर से रावण जला दिया स्वयं को दोबारा नया बना लिया। अगले बरस तक कुछ और जोड़ लेंगे पुराने बगीचे से कुछ नवीन तोड़ लेंगे स्वयं को तराशना कठिन ही होगा आसान बनाने को दशानन बटोर लेंगे। कम से … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

पितृदेव, श्राद्ध

बारह मास में एक पक्ष अब ऐसा आया है पितृदेव को तर्पण का फ़िर अवसर आया है जिनका हमें आशीष मिला बीते पूरे साल वे स्वयं यहाँ पधारे हैं करने को ख़ुशहाल हे अम्मा-बाबा नानी-नाना पुनः तुम्हें सादर नमन जो … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , , | 4 Comments

हिंदी दिवस की शुभकामनाएँ

हिंदी मेरी भाषा और हिंदी मेरी हर बात में जैसे चंदा एक अकेला तारों की बारात में हिंदी में मैं स्वप्न देखता, हिंदी में करता विचार हिंदी मेरे मन का दर्पण, हिंदी ही इसका आधार भारत की सारी भाषाएँ, हैं … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

🙏🌺🌸🙏 #शिक्षकदिवस की शुभकामनाएँ, सभी शिक्षकों को प्रणाम 🙏

शिक्षक कई रूप में मिलते हैं, शिक्षक कई प्रारूप में मिलते हैं। उनके पढ़ाने से हम शून्य से मूल्य में परिवर्तित होते हैं। वे अपनी अमुल्य शिक्षा हममें गढ़ते हैं…यूँ ही नहीं हम उन्हें पूज्य कहते हैं। मात-पिता प्रारम्भिक शिक्षक … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | 2 Comments

मेरा भारत मेरा कश्मीर

e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a495e0a4b6e0a58de0a4aee0a580e0a4b0-e0a4b9e0a4aee0a4bee0a4b0e0a4be-e0a4ade0a4bee0a4b0e0a4a4-.m4a

Posted in जीवन | Tagged , , , , | Leave a comment

पापा, पिताजी

🙏 #पापा, #पिताजी 🙏 उनकी बातें अभी भी जवान हैं मेरे पिताजी में पूरा हिंदुस्तान है । कई बार हवाओं को बदला होगा बाबू जी ऐसी ही दास्तान हैं ।। पिताजी, बाबूजी, अब्बा, पापा … ये शब्द अपने आप में … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , | Leave a comment

चुनाव 2019

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment

राम नवमी

दशरथ के घर जन्में, नवमी के दिन राजा राम आओ ख़ुशियाँ ख़ूब मनाएँ, मन में मेरे आजा राम तुलसी कहते बात ये की राम सत्य संसारा राम नाम के दीप से अंतः बाहर उजियारा राम नाम की लूट है, लूट … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , , , | Leave a comment