Tag Archives: dosti

मित्र

कुछ पल को मित्र क्या दूर हुआ लाचार हुआ, बेकार हुआ नम आँखों से मन को धोया मन में कई बार विकार हुआ कोई हमसे यूँ रूठा था जैसे सपना कोई झूठा था ना रात नींद से बात हुई ना … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , , , , | 2 Comments

दोस्त को सलाम दोस्ती को सलाम

दोस्त को सलाम दोस्ती को सलाम मस्त लम्हों की मस्ती को सलाम उछलते कूदते रास्तों को सलाम साथ किए चाय नाश्तों को सलाम कभी हँसी, कभी हठी में करी शरारत को सलाम बेवजह दोस्तों से करी बग़ावत को सलाम अल्लढ, … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , , , | 2 Comments

सुबह बिक रहा है शाम बिक रहा है

सुबह बिक रहा है शाम बिक रहा है दोस्ती में तू बदनाम दिख रहा है रिश्ता जो कुछ दिन रहा उत्सव-सा निपटने लगा सरेआम दिख रहा है वो तोहफ़े, वे चिट्ठियाँ और वो लिफ़ाफ़े टूटे मकान में दबा सामान दिख … Continue reading

Image | Posted on by | Tagged , , , , , | 15 Comments