Tag Archives: ganesh kavita

विघ्न विनायक गौरी नंदन

विघ्न विनायक गौरी नंदन करूँ प्रणाम तेरा अभिनन्दन सब देवो में पहले देवा करहूँ मैं पूजा, करहूँ मैं सेवा हे तेरे आशीष को चाहूँ मन शुधि कर तुझको पाऊं कर-बद्ध तेरे चरणों में खड़ा पा तेरी कृपा हो जाऊं बड़ा … Continue reading

Posted in जीवन | Tagged , , , , , | Leave a comment